0

Dukh Ki Shayari

कितना बुरा लगता है, जब बादल हो और बारिश ना हो, जब जिंदगी हो और पैर ना हो, जब आंखे हो और ख़्वाब ना हो, जब कोई अपना हो और कोई पास ना हो। kitana bura lagata hai, jab baadal ho aur baarish na… Continue Reading